Connect with us

Daily Tech News

नेपाल में जारी राजनीतिक संकट के बीच PM केपी ओली ने फिर किया अपने कैबिनेट विस्तार

Published

on


नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने देश में जारी राजनीतिक संकट और व्यापक आलोचनाओं के बीच गुरुवार को एक सप्ताह में दूसरी बार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया. पिछले महीने सदन में विश्वासमत प्राप्त करने में विफल रहने के बाद ओली अल्पमत की सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं.

राष्ट्रपति कार्यालय के अनुसार मंत्रिमंडल में सात नए काबीना मंत्रियों और एक राज्य मंत्री को शामिल किए जाने के बाद अब 25 सदस्य हो गए हैं. माईरिपब्लिका समाचार वेबसाइट के अनुसार ओली ने अपने करीबी खगराज अधिकारी को गृह मंत्रालय का प्रभार दिया है. अधिकारी पहले सुशील कोइराला के नेतृत्व वाली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री थे.

गृह मंत्री का पद तब रिक्त हो गया था जब देश के उच्चतम न्यायालय ने बीते 20 मई को गृह मंत्री राम बहादुर थापा सहित 7 नए मंत्रियों की नियुक्ति को यह कहकर निरस्त कर दिया था कि वे सांसद नहीं हैं. इसके एक दिन बाद, ओली ने प्रतिनिधि सभा को भंग कर दिया था. पूर्ववर्ती नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भंग होने के बाद थापा सीपीएन-यूएमएल में शामिल हो गए थे. 

मंत्री बनाए गए अन्य चेहरों में जनता समाजवादी पार्टी से राजकिशोर यादव (उद्योग, वाणिज्य एवं आपूर्ति मंत्री) और नैनकला थापा (संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री) शामिल हैं. थापा पूर्व गृह मंत्री की पत्नी हैं. ओली ने ज्वाला कुमारी शाह को कृषि मंत्री, नारद मुनि राणा को वन मंत्री, गणेश कुमार पहाड़ी को सामान्य प्रशासन मंत्री और मोहन बनिया (अभी कोई मंत्रालय नहीं दिया गया है) को मंत्री बनाया है.

इन लोगों को काबीना मंत्री का दर्जा दिया गया है और आशा कुमारी बीके को वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री बनाया गया है. ओली ने देश में जारी राजनीतिक संकट और व्यापक आलोचनाओं के बीच एक सप्ताह में दूसरी बार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है.

सत्ता पर अपनी पकड़ बनाने और भारत के साथ संबंधों को मजबूत करने के कदम के तहत 69 वर्षीय ओली ने पिछले शुक्रवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करते हुए आठ काबीन मंत्रियों और दो नए राज्य मंत्रियों को शामिल किया था. इसमें मधेसियों के आधार वाली जनता समाजवादी पार्टी को तरजीह दी गई थी.

ओली ने फेरबदल के तहत तीन उप-प्रधानमंत्री नियुक्त किए थे जिनमें से दो मधेसी समुदाय से हैं. उन्होंने उप-प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त जनता समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र महतो को नगर विकास मंत्रालय दिया है, जबकि उप-प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त सीपीएन-यूएमएल के रघुवीर महासेठ को विदेश मंत्रालय दिया गया है.

तीसरे उप-प्रधानमंत्री विष्णु पौडयाल को वित्त मंत्रालय का प्रभार मिला है. वह यूएमएल पार्टी से हैं. नेपाल के मधेसी दल मधेसियों के प्रतिनिधित्व का दावा करते हैं जो तराई क्षेत्र में रहते हैं. भारत के साथ इस समुदाय के मजबूत सांस्कृतिक एवं पारवारिक संबंध हैं.

सत्तारूढ़ नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर सत्ता संघर्ष के चलते पिछले साल 20 दिसंबर को नेपाल तब राजनीतिक संकट में घिर गया था जब राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने प्रधानमंत्री ओली की सिफारिश पर 275 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा को भंग कर 30 अप्रैल और 10 मई को मध्यावधि चुनाव कराने की घोषणा की थी.

देश के उच्चतम न्यायालय ने बीते फरवरी में भंग प्रतिनिधि सभा को बहाल कर दिया था जो ओली के लिए एक झटका था. लेकिन ओली ने प्रतिनिधि सभा को भंग करने की राष्ट्रपति से सिफारिश करने के अपने कदम को यह कहते हुए फिर दोहराया कि उनकी पार्टी के कुछ नेता ‘‘समानांतर सरकार’’ बनाने का प्रयास कर रहे हैं.

राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री की सिफारिश पर पांच महीने के भीतर दूसरी बार 22 मई को प्रतिनिधि सभा को भंग कर दिया और 12 तथा 19 नवंबर को मध्यावधि चुनाव कराए जाने की घोषणा की. मामला फिर उच्चतम न्यायालय में है.

ये भी पढ़ें: संकट से गुजर रहे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली को आयी भारत की याद, बोले- खत्म हुईं सारी गलतफहमियां



Source hyperlink

Daily Tech News

Battlegrounds Mobile India को बैन करने की मांग, लॉन्चिंग में हो सकती है देरी

Published

on


PUBG के फैंस लंबे समय से इसके इंडियन वर्जन Battlegrounds Mobile India का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन इन फैंस को इसके लॉन्च से पहले झटका लग सकता है. दरअसल कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने केंद्रीय आईटी और संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद को चिट्ठी लिखकर इस गेम को बैन करने की मांग की है. उनका मानना है कि यह गेम भारत की राष्ट्रीय संप्रभुता और सुरक्षा के लिए खतरा साबित हो सकता है. साथ ही युवाओं के लिए भी ये नुकसानदायक है 

फिर उठी बैन करने करने की मांग
CAIT ने बैन करने की मांग के साथ ही गूगल से Battlegrounds Mobile India डेवलपर कंपनी क्राफ्टन को गेम के लिए गूगल प्ले स्टोर प्लेटफॉर्म यूज न करने की परमिशन नहीं देने के लिए भी कहा है. CAIT के मुताबिक बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया में पबजी जैसे फीचर्स हैं और इससे भारत की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है. गेम से भारत के लाखों यूजर्स के डाटा लीक हो सकता है.

बैन करने पर ये है सरकार का रुख
जेएनयू में सहायक प्रोफेसर डॉ गौरव त्यागी की ओर से दायर एक आरटीआई को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) और गृह मंत्रालय (एमएचए) की ओर से जवाब मिला है. जवाब में कहा गया है कि किसी भी गेम को लॉन्च होने से पहले बैन नहीं किया जा सकता है. आरटीआई का जवाब देते हुए आईटी मंत्रालय ने कहा कि सरकार इस गेम को भारत में लॉन्च होने से नहीं रोक सकती है. हालांकि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69ए के नियम के तहत खेल शुरू होने के बाद मंत्रालय इस गेम पर प्रतिबंध लगा सकता है.

50 लाख के पार हुआ डाउनलोड
बता दें कि Battlegrounds Mobile India का अर्ली एक्सेस हाल ही में एंड्रॉयड यूजर्स के लिए अवेलेबल करवाया गया था. गेम बनाने वाली कंपनी क्राफ्टन की मानें तो इसके अर्ली एक्सेस में 50 लाख डाउनलोड से ज्यादा हो गए हैं. 

ये भी पढ़ें

Battlegrounds Mobile India: गेम का बीटा वर्जन हुआ अवेलेबल, सिर्फ इन्हें मिला खेलने का मौका

Windows 11 Launching: Microsoft इस दिन लॉन्च करेगी Windows 11, मिल सकते हैं ये खास फीचर्स



Source hyperlink

Continue Reading

Daily Tech News

Bitcoin Steadies in Asia Trading After Monday’s Plunge

Published

on


Bitcoin stabilised in Asian buying and selling on Tuesday morning a day after a press release from China’s central financial institution reaffirming the continued crackdown on cryptocurrencies within the nation despatched the world’s largest token to a two-week low.

Bitcoin was final up 3.17 p.c at $32,600 (roughly Rs. 24.16 lakhs), having dropped greater than 10 p.c on Monday. As of June 22 (11:16am IST), Bitcoin worth in India stood at Rs. 24.44 lakhs. Ether, the second-biggest cryptocurrency, was up 3.54 p.c at $1,950 (roughly Rs. 1.44 lakhs) after hitting a five-week low the day earlier than. As of June 22 (11:16am IST), Ether worth in India stood at Rs. 1.46 lakhs.

Monday’s sell-off was sparked by an announcement from the People’s Bank of China saying it had summoned China’s largest banks and fee corporations urging them to crack down tougher on cryptocurrency buying and selling.

Beijing has sharply ratcheted up its marketing campaign up to now few weeks, since China’s State Council, or cupboard, mentioned final month it could tighten restrictions on Bitcoin buying and selling and mining.

However, Tuesday’s worth strikes urged Asian merchants thought markets in a single day had overreacted to the information.

“A Chinese ban on cryptocurrencies isn’t something new. The one that came out yesterday was almost a copy of a previous annoucement, earlier this year,” mentioned Justin d’Anethan, head of alternate gross sales at crypto alternate operator EQONEX.

“As always, leverage, large participants and fundamental events mean crypto can move dramatically,” he mentioned.

Last month, three trade associations issued a ban on crypto-related monetary companies, however the our bodies are a lot much less highly effective than the PBOC.

Market individuals mentioned on the time that the sooner ban can be exhausting to implement as banks and fee corporations would wrestle to establish crypto-related funds.

However, following Monday’s PBOC assertion, banks together with Agricultural Bank of China, and Alipay, the ever-present fee platform owned by fintech big Ant Group, mentioned they’d step up monitoring to root out crypto transactions.


Interested in cryptocurrency? We focus on all issues crypto with WazirX CEO Nischal Shetty and WeekendInvesting founder Alok Jain on Orbital, the Gadgets 360 podcast. Orbital is out there on Apple Podcasts, Google Podcasts, Spotify, Amazon Music and wherever you get your podcasts.



Source hyperlink

Continue Reading

Daily Tech News

The Boys Season 3 to Feature ‘Craziest Thing Ever Done’, Eric Kripke Says

Published

on


The Boys season 3 episode 1 will function “the craziest thing we’ve ever done”, creator, showrunner, and head author Eric Kripke has teased in a brand new interview. Kripke naturally would not want to spoil what it’s, although he did reveal that it could be within the visible gag division, in step with different stuff The Boys has executed prior to now together with “the 12-inch penis, the smashing into a whale broadside, [or] facing-sitting a guy to death”. Also within the interview, Kripke stated The Boys season 3 will discover “how politics are turning us on each other” within the US, due to new character Soldier Boy.

Asked how he feels about with the ability to embrace profanity on The Boys, one thing he could not do with Supernatural on cable TV, Kripke stated he is not so loopy about dropping F-bombs. Instead, he is at all times extra excited concerning the visuals they’ll pull off at Amazon Prime Video, which permits The Boys to be as grownup and graphic because it desires. Noting the penises and the whales, Kripke added: “Those are the ones that, for me, I sit in editing with my hands over my head, just giggling. Because I was in broadcast for so long. And so, I don’t take for granted that I’m in a space where I can just pull this stuff off.”

“Without giving away any spoilers, I was just in editing yesterday, and we’re doing something here in [The Boys] season 3 premiere that is not only I think the craziest thing we’ve ever done, it’s got to be up there with the craziest thing anyone’s ever done,” Kripke continued. “Maybe it won’t work. Who knows? But I’m just so high on this gag that we’re pulling off. And it’s certainly something nobody has ever seen before, probably for good reason. So all that’s really exciting.”

Without delving into spoilers (once more), Kripke additionally touched upon how they’re increasing their socio-political critiques in The Boys season 3. From the beginning, The Boys — largely due to its grownup 18+ ranking — has been in a position to deal with the likes of white supremacy, political polarisation, refugee fear-mongering, and America’s gun legal guidelines. On The Boys season 3, Kripke & Co. are pushing their exploration of “America itself as a myth” past that, in time and scope.

“A big element of the comics actually are flashbacks to World War II and Vietnam,” Kripke stated. “I always really loved it because you got to see how the superhero phenomenon didn’t just affect the present, but how it affected parts of the past as well. And so, we have this character [on The Boys season 3], Soldier Boy, played by Jensen Ackles, and he’s been around since World War II and was the first Vought superhero. Through him and through his story, we’re able to explore a lot of the history of the country, really.”

Kripke added: “I’d say in previous seasons the bogeyman for you to be scared of used to be, ‘The terrorists are coming to get you.’ And now it’s sort of metastasised into, I think, a much more ominous, ‘Your neighbour is coming to get you.’ And that’s scary to me, how politics are turning us on each other. So, we want to explore what it means to be in America, really.”

The Boys season 3 would not have a launch date. But do not anticipate it earlier than 2022, given it is at the moment “in the middle of shooting” and “just over the halfway point by a couple of weeks”, Kripke revealed.


It’s Google I/O time this week on Orbital, the Gadgets 360 podcast, as we talk about Android 12, Wear OS, and extra. Later (beginning at 27:29), we leap over to Army of the Dead, Zack Snyder’s Netflix zombie heist film. Orbital is accessible on Apple Podcasts, Google Podcasts, Spotify, Amazon Music and wherever you get your podcasts.



Source hyperlink

Continue Reading

Trending